पीएम किसान सम्मान निधि की किस्त खाते में नहीं आई? कहीं आपने भी तो नहीं की ये गलती

पीएम किसान सम्मान निधि योजना की सातवीं किस्त जारी हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी खुद 9 करोड़ किसानों के Account में 18000 करोड़ रुपये भेजे हैं। अधिकतर किसानों के बैंक Account में यह धनराशी क्रेडिट भी हो चुकी है। इसके बावजूद अगर आपके Account में धनराशी नहीं पहुंची तो, इसकी सबसे बड़ी वजह है

इन मामूली सी गलतियां होना। जैसे किसी के आवेदन करते समय नाम दिया आधार से मैच नहीं करता है| या बैंक Account से नाम नहीं मिलता। किसी ने आधार कार्ड नंबर सही नहीं डाला है तो किसी ने बैंक के IFSC Code में गलती कर दी  है।

इन मामूली गलतियों की वजह से करीब किसानों के bank Account में सम्मान निधि की रकम नही मिल रही है। और अगर आप भी इन में से हैं तो इस गलती को आप अभी सुधार लें। इसके लिए आपको कहीं जाना नही पढ़ेगा इसे आप अपने मोबाइल से ही ठीक कर सकते है| अगर आपने अपने मोबाइल में पीएम ऐप डाउन लोड कर रखा है| फिर तो गलतियां सुधारना बहुत आसान है।

  • PM-Kisan Scheme की वेबसाइट https://pmkisan.gov.in पर जाएं। इसके अंदर जाकर Edit Aadhaar Details पर क्लिक करें।
  • आप यहां पर अपना आधार कार्ड नंबर दर्ज करें। और फिर  कैप्चा डालकर सबमिट कर दे।
  • अगर आपका नाम गलत होता है तो इसे ऑनलाइन ठीक किआ जा सकता है|
  • अगर आपके आवेदन में कोई और गलती है तो इसके लिए आप अपने लेखपाल से संपर्क करें

नही मिले पैसे तो क्या करें

  • अगर आपको आवेदन करने के बाद भी नही मिल रहे पैसे तो कृषि मंत्रालय की तरफ से जारी किआ गया; हेल्पलाइन नम्बर 155261 या 1800115526 पर संपर्ककर सकते है;। और अगर यहाँ से भी बात नही बनती हो तो मंत्रालय के दूसरे नंबर (011-23381092) पर कॉल लगा सकते हैं।

बता दें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को 8.5 करोड़ किसानों के bank Account में पीएम किसान योजना के तहत 2000 रुपये की छठी किस्त जारी की है। 8.5 करोड़ किसानों के Bank Account में 17 हजार करोड़ रुपये ट्रांसफर किए गए। इसके साथ ही पीएम नरेन्द्र मोदी जी ने 1 लाख करोड़ रुपये की वित्त पोषण सुविधा को आभारंभ किया है।

इस योजना की शुरु से अब तक लगभग 10 करोड़ किसानों को इसका फायदा मिल रहा है;। इस छठी किस्त के बाद अब तक किसानों के अकाउंट में करीब 92,000 करोड़ रुपये आ चुके हैं।

इसे भी पढ़े…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *