अबतक नहीं मिली Pm kisan Yojana की किस्त तो फौरन कर लें ये काम

Pm kisan Yojana: पीएम किसान सम्मान निधि योजना की सातवीं किस्त के रूप में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी 25 दिसंबर को 9,06,22,972 किसानों के अकाउंट में ₹2000 की किस्त भेजकर बड़ा तोहफा दिया है, मौजूदा समय में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के 11 करोड़ 40 लाख लाभार्थी है।

मतलब करीब 2 करोड़ 40 लाख किसानों के अकाउंट में पैसा नहीं पहुंचा है, अगर आपके अकाउंट में रकम नहीं आ रही है तो सबसे पहले उसकी वजह जान ले फिर घर बैठे उसे दूर कर ले जिससे शादी किस आपके खाते में आसानी से आ जाएगी।

बता दें कि रकम ट्रांसफर आर्डर जनरेट होने के बावजूद भुगतान फेल होने के कई कारण हो सकते हैं इसकी सबसे बड़ी वजह है आवेदन में लिखा गया नाम बैंक अकाउंट या आधार से मैच नहीं कर रहा है।

किसी ने आधार नंबर सही नहीं डाला है, और किसी ने बैंक आईएफएससी कोड सही नहीं डाला है, आवेदन कर्ताओं के नाम मोबाइल नंबर और बैंक अकाउंट नंबर में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी हुई है।

गलतियों को घर बैठे कैसे ठीक करें

अगर आवेदन के बाद आपके बैंक अकाउंट में पैसे नहीं आए हैं तो अपना रिकॉर्ड चेक कर ले कि उस पर कोई गलती तो नहीं हुई है, इसके लिए आपको कहीं और जाने की जरूरत नहीं है बल्कि आप घर बैठे अपने मोबाइल पर ही ठीक कर सकते हैं।

अगर आप ने पीएम के साथ मोबाइल ऐप डाउनलोड किया है तो गलतियां सुधारने और भी आसान है चलिए जानते हैं एक गलतियों को कैसे ठीक कर सकते हैं।

ऐसे ठीक करें

  • PM-Kisan Scheme की ऑफिशियल वेबसाइट (https://pmkisan.gov.in/) पर जाए; इसके फार्मर कॉर्नर के अंदर जाकर Edit Aadhaar Details ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • आप यहां पर अपना आधार नंबर दर्ज करें। इसके बाद एक कैप्चा कोड डालकर सबमिट करें।
  • अगर आपका केवल नाम गलत होता है यानी कि अप्लीकेशन और आधार में जो आपका नाम है; दोनों अलग-अलग है तो आप इसे ऑनलाइन ठीक कर सकते हैं।
  • अगर कोई और गलती है तो इसे आप अपने लेखपाल और कृषि विभाग कार्यालय में संपर्क करें

अब केंद्र सरकार और राज्य सरकार फर्जीवाड़ा करते वाले किसानों से पैसे वसूलने की तैयारी में लगी हुई है; बता दें कि वह राष्ट्र में इनकम टैक्स चुकाने वाले किसानों; को पीएम किसान सम्मान निधि योजना के द्वारा सालाना 6000 रुपए दिए जाते है।

जबकि इस pm kisan yojana का लाभ सिर्फ वही किसान उठा सकते हैं जिनके पास जमीन है; और वह इनकम टैक्स भी नहीं भरते हैं इसका लाभ उन किसानों को भी नहीं मिलेगा; जिनके ₹10000 मासिक पेंशन या डिविडेंड मिलता है।

इसे भी पढ़े…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *