प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना: Gramin Ujala फ्री एलईडी बल्ब पंजीकरण

भाईयो सरकार ग्रामीण क्षेत्रों का विकास कर रही है. ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए सरकार अनेक तरह की योजनाएं लती रहती हैं: आज हम आपको कुछ ऐसी ही एक योजना से के बारे में जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। योजना का नाम प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना है।

इस पोस्ट को पढ़कर आपको इस योजना के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारी मिल जाएगी. जैसे प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना क्या है?,

इसके लाभ, विशेषताएं, उद्देश्य, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि. तो दोस्तों यदि आप Pradhanmantri Gramin Ujala Yojana से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हो. तो आप से बिनती है कि आप हमारे इस पोस्ट को अंत तक पढ़ें।

Pradhanmantri Gramin Ujala Yojana

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के द्वारा ग्रामीण इलाकों के परिवार को 10 रुपए में एलईडी बल्ब दिए जाएंगे। इस योजना के द्वारा प्रत्येक परिवार को लगभग तीन से चार एलईडी बल्ब दिए जाएंगे।

Pradhanmantri Gramin Ujala Yojana को पब्लिक सेक्टर की एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड इसे अगले महीने वाराणसी समेत भारत केेे पांच शहरों के ग्रामीण इलाकों में शुरू किया जाएगा। और अप्रैल तक इस योजना को पूरे देश में चालू कर दिया जाएगा।

पीएम ग्रामीण उजाला योजना लॉन्चिंग दिनांक

इस योजना को लॉन्च करने का मुख्य कारण एनर्जी एफिशिएंसी को गांव तक पहुंचना है। 

PM Gramin Ujala Yojana के कारण से बिजली के बिल कम आएगा। जिससे लोगों की बचत बढ़ेगी। इस योजना के द्वारा लगभग 15 से 20 करोड़ परिवारों को 60 करोड़ एलईडी बल्ब दिए जाएंगे। 

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के  से द्वारा सिर्फ लोगों के पैसों में बचत होगी। और एक बेहतर जीवन व्यतीत होगा। इस योजना के द्वारा एलईडी बल्ब की मांग बढ़ेगी जिससे कार्य में बढ़ोतरी होगी।

Key Highlights Of  Pradhanmantri Gramin Ujala Yojana

योजना का नाम प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना
किसने शुरू की एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड
लाभार्थी ग्रामीण इलाकों में रहने वाले नागरिक
उद्देश्य एनर्जी एफिशिएंसी को ग्रामीण इलाकों तक पहुंचाना
साल 2020
बल्ब का मूल्य ₹10
लाभार्थियों की संख्या 15 से 20 करोड़
बल की संख्या 60 करोड़
बिजली की बचत 9324 करोड़ यूनिट
पैसों की बचत 50 हजार करोड़ रुपए
कार्बन उत्सर्जन में कमी 7.65 करोड़

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के अंतर्गत बचत

PM Gramin Ujala Yojana को चरणबद्ध तरीके से चालू किया जाएगाा? जिसमें  का वाराणसी, बिहार का आरा, महाराष्ट्र का नागपुर, गुजरात का वडनगर तथा आंध्रप्रदेश का विजयवाड़ा शामिल है। 

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना से लगभग 9324 करोड़ यूनिट की हर साल बिजली की बचत होगी। जबकि 7.65 करोड़ टन हर साल कार्बन उत्सर्जन में कमी आएगी। इस योजना के द्वारा से 50,000 करोड़ रुपए साल की बचत होगी।

इस योजना के लिए केंद्र या राज्य सरकार से कोई सब्सिडी नहीं ली जाएगी। और इस योजना में जो खर्च आएगा वो ईईएसएल (EESL) करेगी। इस योजना की लागत वसूली कार्बन ट्रेडिंग के द्वारा की जाएगी।

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना का उद्देश्य

ग्रामीण उजाला योजना का मुख्य कारण ग्रामीण इलाकों में एनर्जी एफिशिएंसी को लेे जाना है। इस योजना के द्वारा ₹10 मैं एक LED बल्ब प्रदान किया जाएगा। जिससे कि बिजली की बचत होगी और पैसों की बचत होगी।

Gramin Ujala Yojana के द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों का विकास होगा और उनके जीवन में सुधार आएगा्” इस योजना के द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के सभी “लोग” एनर्जी एफिशिएंसी के बारे में जागरूक होंगे। जिससे कि पूरा भारत का विकास होगा।

PM Gramin Ujala Yojana की विशेषताएं

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के तोहार ग्रामीण इलाकों के परिवार को 10 रुपए में एलईडी बल्ब दिए जाएंगे।

योजना के द्वारा प्रत्येक परिवार को तीन से चार एलईडी बल्ब दिए जाएंगे।

PM Gramin Ujala Yojana को पब्लिक सेक्टर की एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड द्वारा शुरूू किया जाएगा।

इस योजना को चरणबद्ध तरीके से उत्तर प्रदेश के वाराणसी, आरा, नागपुर, वडनगर और विजयवाड़ा में लागू किया जाएगा।

इस योजना को अप्रैल तक पूरे देश में लागू कर दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के द्वार से 15 से 20 करोड़ लाभार्थियों को 60 करोड़ LED बल्ब वितरित किए जाएंगे।

Pradhanmantri Gramin Ujala Yojana के माध्यम से लगभग 9325 करोड़ यूनिट हर साल बिजली की बचत होगी।

उजाला योजना के माध्यम से 7.65 करोड़ टन हर साल कार्बन उत्सर्जन में कमी आएगी।

इस योजना के द्वारा हर साल 50,000 करोड रुपए की बचत होगी।

उजाला योजना को चालू करने के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकार से कोई सब्सिडी नहीं ली जाएगी। इस योजना में जो खर्चा आएगा वह EESL करेगी।

इस योजना के अंतर्गत लागत की वसूली कार्बन ट्रेडिंग के द्वारा की जाएगी।

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के द्वारा ग्रामीण इलाकों के लोग एनर्जी एफिशिएंसी के बारे में  जागरूक होंगे।

इस योजना के माध्यम से बिजली के बिल में बचत होगी।

इस योजना के माध्यम से लाभार्थियों के पैसों की बचत होगी।

उजाला योजना कार्यक्रम का पिछला प्रक्षेपण

एनटीपीसी, पीएफसी, आरईसी और पावर ग्रिड संयुक्त उद्यम कंपनी उजाला कार्यक्रम के द्वारा ₹70 प्रति बल्ब की कीमत से 36.50 करोड़ से ज्यादा एलईडी बल्ब वितरित कर चुकी है।

जिसमें से केवल 20% बल्ब ही सभी ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंचे हैं। उजाला कार्यक्रम के अंतर्गत ट्यूब लाइट, एनर्जी एफिशिएंसी पंखे, स्मार्ट मीटर, स्ट्रीट लाइट, इलेक्ट्रॉनिक व्हीकल, EV चार्जिंग आदि भी शामिल है।

2 Comments on “प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना: Gramin Ujala फ्री एलईडी बल्ब पंजीकरण”

  1. My aadhar number is registered with kissan samman youjna…. but I still didn’t receive any amount from government…. any body help me plz?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *